दिन रात बस यही करता हूँ मैं

दिन रात बस यही करता हूँ मैं ,
तेरी यादों को ग़ज़ल करता हूँ मैं।

गलती तो तेरी है और जुर्माना,
तू तो बच जाती है, भरता हूँ मैं।

बहुत कठिन है सब भूल जाना,
तेरी यादों से भी डरता हूँ मैं।

यादें तेरी, मेरे दिल की कातिल है।
खुद तो ज़िंदा रहती हैं, मरता हूँ मैं।


तारीख: 17.06.2017                                                        अर्पित गुप्ता 






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है