जहाँ हो राज जनता का बगावत कौन करता है

जहाँ हो राज जनता का बगावत कौन करता है
जरा सी भूल पर यारों शिकायत कौन करता है ।

*****

बदल लहजा गया है अब जहां में आदमियों का
अदब में सर झुकाने की भी जहमत कौन करता है ।

*****

अगर है प्यार मुझसे ही जताओ भी जरा तुम तो
मुझे भी ये पता चल जाए महब्बत कौन करता है ।

*****

खुदा की हो नज़र जिसपर उसे किस बात का है डर
नज़र उसपर उठाने की हिमाकत कौन करता है ।

*****

गरीबी वो मिटाने को मिटा देते गरीबों को
अमीरी अपनी लुटाकर सियासत कौन करता है ।


तारीख: 18.06.2017                                                        ऋषभ शर्मा रिशु






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है