जरूरी है क्या

 

तुझे हर बात  बताना जरूरी है क्या
प्रेम करता हूँ जताना जरूरी है क्या

मैं कहीं भी आऊँ जाऊँ मेरी मर्जी
तेरी नजरों में आना जरूरी है क्या

गमजदा हूँ में तो रोऊगाँ आज
तुझे देखकर मुस्कुराना जरूरी है क्या

मुहँ से कहे पर यकीन करो ना
तुमसे नजरें मिलाना जरूरी है क्या

"बेचैन" एक आशिक मिजाज का
बताओ दिल लगाना जरूरी है क्या


तारीख: 15.06.2017                                                        रामकृष्ण शर्मा बेचैन






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है