ज़िन्दगी की डगर थोड़ी आसान कर

ज़िन्दगी की डगर थोड़ी आसान कर
वक़्त पर सारे कर्ज़ों का भुगतान कर


चाहता है अगर तुझको जन्नत मिले
काम नेकी का भी रोज़ इंसान कर


सर झुकाकर हमेशा तू आ सामने
अपने माँ-बाप को अपना भगवान कर


बस रहा है खुदा हर तरफ़ हर कहीं
जीव-जंतु को भी मत परेशान कर


नेकियाँ ही ‘पवन’ पीछे रह जाएँगी
थोड़ा-थोड़ा सही तू मगर दान कर
 


तारीख: 17.03.2018                                                        डॉ. लवलेश दत्त






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है