तेरी आँखों की बगावत

खुशियों का न कोई ठिकाना होगा
मेरी ज़िन्दगी में जो तेरा आना होगा ।
*****
कभी यादों की बारिश जो सताएगी 
तेरी जुल्फों का शामियाना होगा ।
*****
निगाहें तीर से घायल होना सभी चाहते
देखते है किस पर तेरा निशाना होगा ।
*****
तुझसे दूरियाँ जैसे नदिया के किनारे
दिलों की दूरियों को अब मिटाना होगा ।
*****
लूंगा जो अपनी ग़ज़ल में तेरा नाम मैं
दुश्मन फिर मेरा आज ज़माना होगा ।
*****
बेशक हज़ार रुकावटें डालेगा ज़माना
आग मिलन की दिल में जलाना होगा


तारीख: 15.06.2017                                                        ऋषभ शर्मा रिशु






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है