यूँ न सनम सताया करो

 

यूँ न हमको सनम तुम सताया करो
वादा करके उसे तुम निभाया करो

1-गर निभाना तुझे है सनम साथ रे
  तो खतायें मेरी भूल जाया करो

2-जग में सबको गमों को दिखाते नहीं
  इसलिए इनको दिल में छिपाया करो

3-उस खुदा ने मुझे दी कई चोट हैं
  तुम सनम आके मरहम लगाया करो

4-प्यार करना केवल जग में काफी नहीं
  हर घड़ी प्यार को तुम जताया करो

5-इस जहाँ में गली हर गली में है गम
  खुश रहो औ सदा मुस्कुराया करो

6-एक दिन छोड़कर जाएँगी बेटियाँ
  हर समय इनको अब तुम हँसाया करो


तारीख: 15.06.2017                                                        पीयूष गुप्ता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है