साहित्य के प्रधान सेवक

मिश्रा जी साहित्य के प्रधान सेवक है। साहित्य सेवा का यह बीड़ा उन्होंने 55 किलो ग्राम श्रेणी में ही उठा लिया था ज़ब वो युवावस्था की दहलीज़ पर एक पैर पर खड़े थे। मिश्रा जी ने यह ज़िम्मेदारी साहित्य के बिना कहे ही अपने कंधो और शरीर के हर अंग पर ले रखी है। साहित्यिक चौकीदारी का यह पद, मिश्रा जी बिना किसी पारिश्रमिक के, श्रमिक की तरह, कब्जाए हुए है। 

साहित्य के इतिहासकार, साहित्यिक चौकीदारी की सूनी माँग और सूनी गोद भरने का श्रेय मिश्रा जी को ही देते है। मिश्रा जी बचपन से ही सफ़ल और धनी साहित्यकार बनना चाहते थे लेकिन किस्मत और प्रतिभा दोनों ने साझा सरकार बना कर मिश्रा जी को धोखा दिया और मिश्रा जी के साहित्यकार बनने के सपने पर केंट आरो का पानी फेर दिया। विडंबना रही कि किस्मत और प्रतिभा की यह साझा बेईमानी भी मिश्रा जी को अपनी साहित्यिक डुगडुगी बजाने से नहीं रोक सकी। 

शुरुआत में साहित्य बहुत ही आशा भरी निगाहो से मिश्रा जी की और निहार रहा था लेकिन अब मिश्रा जी की हेराफेरी से हार कर उसने अपनी आँखे फेर ली है। साहित्य और साहित्यकारों पर मिश्रा जी का प्रकोप मौसमी बीमारियो की तरह बेवफा नहीं होता है बल्कि "लवेरिया" की तरह सदाबहार होता है।

साहित्य की चौकीदारी करने के कर्म का मर्म अच्छी तरह से मिश्रा जी को कंठस्थ है और वे अक्सर उसी में ध्यानस्थ रहते है। कविता , व्यंग्य , गीत, ग़ज़ल, कहानी आदि साहित्यिक विधाओ पर मिश्रा जी दयालु और निरपेक्ष भाव से अपनी वक्र दृष्टि का वज्रपात बारी बारी से नियमित रूप से करते है। मिश्रा जी मन में सोचते है कि उनकी वक्र दृष्टि , सुदर्शन चक्र बनकर खुद का समय और रचनाकारो के साहित्यिक पाप अच्छे से काट रही है। किसी भी साहित्यिक विधा से मिश्रा जी कोई इरादतन भेदभाव नहीं बरतते है। वे सबका साथ सबका विकास की तर्ज़ पर सभी रचनाओ के रचनाकारों के मुखमंडल पर साहित्य को कलंकित और दूषित करने का आरोप मल कर हल्के होते है। किसी भी विधा का लेखक अपने को लेखक मानने की भूल नहीं कर सकता ज़ब तक कि मिश्रा जी उसे लेखक मानने की भूल ना कर दे। "कवि, व्यंगकार, कथाकार चाहे सब पर हो भारी,  है सब मिश्रा ताड़ना के अधिकारी।" साहित्य के क्षेत्र में मिश्रा जी पहले अपेक्षा के शिकार हुए, फिर उपेक्षा के शिकार हुए लेकिन फिर भी मिश्रा जी अपने शिकार करना नहीं छोड़ा।

साहित्य के क्षेत्र में नवागुंतको की रचनाओ को मिश्रा जी की विशेष कुदृष्टि का लाभ मिलता है। नवागुंतको की रचनाओ को मिश्रा जी को पढ़ने की ज़रूरत नहीं पड़ती है, वो उन्हें सूंघ कर ही उन्हें रिजेक्ट कर देते है। किसी नए रचनाकार की रचना अगर कपितय कारणों से मिश्रा जी का कोपभाजन का शिकार होने से रह जाए तो यह रचनाकार के लिए बड़ा साहित्यिक अपशुगन माना जाता है। किसी भी साहित्य पिपासु के लिए अपनी रचनाओ पर मिश्रा जी की लानत के हस्ताक्षर होना अच्छी  "साहित्यिक बोहनी" माना जाता है। अगर रचनाकार ज़्यादा लक्की हो तो तो उन्हें बिना माँगे ही मिश्रा जी की लानत हाथ लग जाती है जिसे वे जीवन भर पैरो में आने से बचाकर उसका सम्मान करते है। साहित्य की सीमारेखा भले ही किसी बिंदु पर जाकर समाप्त हो जाती हो लेकिन साहित्य के भीतर मिश्रा जी, किसी सीमा या रेखा के मोहताज नहीं है। सभी रचनाओ तक उनकी वैध-अवैध पहुँच है जो कि मिश्रा जी को बिना कटघरे में रखे उनके साहित्य प्रेम की गवाही देता है।

मिश्रा जी कभी कभी समय और कलम निकाल कर खुद भी लिख लेते है। वे सतर्क लेखक है, लिखते वक़्त ही नहीं बल्कि लिखने के बाद भी उनकी सतकर्ता अपने पूरे "तांड़वात्मक शबाब" पर रहती है, जिसे नियंत्रित करने के लिए कभी कभी उनके शुभचिंतको को आपातकालीन परिस्थितियों में भरे गले और खाली दिमाग से साहित्यिक देवी-देवीताओ का आह्वान भी करना पड़ता है। लिखने के  बाद मिश्रा जी की एक आँख लाइक की संख्या पर तो दूसरी मोबाइल के बैटरी परसेंटेज पर रहती है। मिश्रा जी स्वभाव से अच्छे बंदे है लेकिन साहित्यिक सतर्कता ने उनकी साहित्यिक चेतना को जबरन बंदी बना रखा है। 

केवल लेखक ही नहीं बल्कि एक पाठक के तौर पर भी मिश्रा जी साहित्यिक सतर्कता को नहीं बख्शते है। दुर्घटनावश वे एक सतर्क और सजग पाठक भी है, हर स्क्रीन शॉट में बैटरी परसेंटेज भी पढ़ डालते है। वे अध्ययन में रूचि और धैर्य दोनों रखते है, अभी तक अपनी सभी महिला मित्रो के इनबॉक्स वार्तालाप के स्क्रीन शॉट्स चाव और ध्यान से पढ़ चुके है। वे वार्तालाप से प्रेमालाप की तरफ़ गमन करने में विश्वास रखते है ताकि साहित्यिक आवागमन में सुविधा रहे।

मिश्रा जीे, साहित्यिक चौकीदारी को एक विशेषज्ञ कर्म और कांड मानते और मनवाते है इसीलिए साहित्यिक सूत्रो को पूरा भरोसा है कि मिश्रा जी ने भले ही अपने जीवन में कुछ अच्छे से ना लिखा हो लेकिन अपनी साहित्यिक चौकीदारी की वसीयत वो ज़रूर अच्छे से अपनी तरह ही किसी योग्य व्यक्ति के नाम लिखेंगे।


तारीख: 17.12.2017                                                        अमित शर्मा 






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है