अधिकार

आज शीना को फिर देरी हो गयी घर से निकलते-निकलते घर की आगे वाली गली से साइकिल रिक्शा लेकर वह बड़खल फरीदाबाद स्टेशन पहुंची दिल्ली राजीव चौक जाने के लिए मेट्रो पकड़नी थी पास तो उसने बना ही रखा था वह दिल्ली के एक प्रसिद्ध संस्थान से फैशन डिजाइनिंग का कोर्स कर रही है। 

अभी मेट्रो स्टेशन पे खडी ही थी कि एक लड़का उसके पास आकर खड़ा हो गया उसका इस तरह पास आना शीना को अजीब भी लगा। थोड़ी ही दूरी पर एक और लड़का खड़ा हुआ मोबाइल पर म्यूजिक सुन रहा था और यह सब देख भी रहा था उसे एक पल को लगा की वो उस लड़की का फ्रेंड है थोड़ी देर बाद उस करीब आये लड़के ने शीना को देख सीटी बजाना शुरू कर दिया और गाना गाने लगा। 

और जो लड़का यह सब देख रहा था उसने अपना म्यूजिक बंद कर दिया और यह सब गौर से देखने लगा कि शीना उस लड़के से डर रही है पर विरोध नहीं कर पा रही है अचानक उस अवारा से लड़के ने शीना के गले के स्कार्फ़ को खीचना चाहा इतने में मेट्रो आ गयी शीना दौड़ी और जो लड़का दूर खड़ा देख रहा था वो भी दौड़कर मेट्रो में चढ़ गया और वह आवारा सा लड़का शीना को देखकर हँसता रहा अब शीना मेट्रो के अंदर अपनी सीट ढूंढ रही है उसे वही लड़का महिला सीट पर दिखा जो थोड़ी देर पहले दूर खड़ा उस घटना को देख रहा था शीना ने उसके पास जाकर बोला यह महिला सीट है आप यहाँ से उठिए वो लड़का अभी भी म्यूजिक सुन रहा था उसने कान से इयरफ़ोन हटाया और पूछा आपने मुझ से कुछ कहा शीना ने फिर वही दोहराया यह महिला सीट है आप यहाँ से उठिए तब वह लड़का बोला आप महिला हैं तो क्या आपको आपके सब अधिकार याद हैं? 

क्या आपका अधिकार सिर्फ महिला आरक्षित सीट पर है,एडमिशन की लिस्ट तक ही सुरक्षित हैं शीना बोली क्या मतलब है आपका, लड़का बोला मतलब आप अच्छी तरह समझती हैं अभी आपके साथ जो घटना घट रही थी मैं उसका साक्षी हूँ पहले मैं समझा आपका कोई फ्रेंड है इससे पहले मैं कुछ समझ ही पा रहा था कि मेट्रो आ गयी मैं पूछना चाहता हूँ आपका महिला होने का अधिकार कहाँ गया था?

आप एक निर्जीव सीट के लिए मुझसे अधिकार मांग रहीं हैं पर आपके अस्तित्त्व के ऊपर जो अधिकार कर रहा था उसका क्या? मैं यह सीट तो अभी छोड़ दूँगा पर आप अपने अधिकार मत छोडिये और यह कहता हुआ लड़का सीट से उठ गया। शीना यह सुनकर एकदम सकपका गयी अब उसके पास कोई जवाब नहीं था |

                                        


तारीख: 09.06.2017                                                        डॉ विनीता मेहता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है