आज शादी है तुम्हारी 

आज शादी है तुम्हारी, ध्यान रखना |
बढ़ेगी घर की आबादी तुम्हारी, ध्यान रखना |

माना दोस्तों का समय पत्नी ले जाएगी, 
पर भुला मत देना यारी हमारी, ध्यान रखना |

पत्नी को खुशी देना, जैसे उसके माँ-बाप देते थे, 
छोड़कर आ रही है वो दुनिया सारी, ध्यान रखना |

की कोशिश माँ-बाप ने तुम्हें हर खुशी देने की, 
रहना हमेशा उनके आभारी, ध्यान रखना |

माँ-बाप को सम्मान मिले, पत्नी को भी प्यार मिले, 
तभी बसेगी गृहस्थी तुम्हारी, ध्यान रखना |

मत तोड़ना उम्मीद किसी की, अगर उम्मीद सही हो, 
रिश्ते ही है सम्पति तुम्हारी, ध्यान रखना |

देना समय कार्य, मित्र, परिवार, प्रभु को, 
संतुलन ही है समझदारी, ध्यान रखना |

किसी का दिल ना दुखे तुम्हारी वजह से, 
इतनी-सी रखना होशियारी, ध्यान रखना |

खुश रहो, जीवन जीयो, मौज करो, 
बस कुछ मिनट जपो कृष्ण मुरारी, ध्यान रखना |

माना हम आपके लिए खास नही हैं, 
पर कुछ तो अच्छी लगी होगी बात हमारी, ध्यान रखना |


तारीख: 20.03.2018                                                        अनिल रघुवंशी






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है