बचपन में लगाया था एक पौधा

बचपन में लगाया था एक पौधा...
पीछे मुड़ के देखा तो दिखाई न दिया
अब तक तो उसे पेड़ हो जाना था...

कमी तो कोई न की थी खाद-मिट्टी में मैंने
तुमने भी तो उसे सींचा था-
वो पानी खारा था क्या?


तारीख: 17.12.2017                                                        अखिलदीप दीक्षित






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है