इस तिरंगे पर

देंगे हम जान इस तिरंगे पर,
अपना ईमान इस तिरंगे पर।

हमको अभिमान इस तिरंगे पर,
देश का मान इस तिरंगे पर।

मेरे तो खून का है हर कतरा,
आज कुरबान इस तिरंगे पर।

राम रहमान और गुरुनानक,
सबका सम्मान इस तिरंगे पर।।

हमको विश्वास सबसे ज्यादा है,
देश की आन इस तिरंगे पर।

मेरा बस एक ख्वाब है 'अम्बर'
होऊं कुरबान इस तिरंगे पर।


तारीख: 20.10.2017                                                        अभिषेक कुमार अम्बर






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है