जबसे हुआ है तेरा दीदार

जबसे हुआ है तेरा दीदार
ओ माही तेरा करूँ इंतज़ार ।
रह न पाउँगा तुझ बिन यार
मोहे इतना न कर तू प्यार ।

दूर जाओगे जो मुझसे यार
हो जायेगा जीना दुशवार ।
तुझसे हुआ सांसों का व्यापार
अब न करना मुझसे तकरार ।

कर ले कुछ भी ये संसार
मरते दम तक करूँगा प्यार ।
अब कर भी दो इज़हार
न होगा मुझसे अब इंतज़ार ।

दूर से जोड़ो न दिल के तार
सैंया आ भी जाओ इस पार ।


तारीख: 18.06.2017                                                        ऋषभ शर्मा रिशु






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है


नीचे पढ़िए इस केटेगरी की और रचनायें