माँ, तेरी याद आती है

 माँ , तेरी  याद  आती  है ,
बाबा  की  याद  आती  है .
दिन  वो  याद  आते  है ,
जब  चले  थे  साथ  हम .
तेरी   लोरी , बाबा  की  थपकी ,
भैया  की  मस्ती , घर  की  याद  आती  है .
माँ , तेरी याद …


बाबा  जो  कहते , हम  करते ,
सारे  नियम  और  कायदो   पर  चलते .
उनकी  हर  सीख  को  सर  आंखो   पर  रखते .
फिर   क्यूँ  माँ , हम  कहाँ    चूक  गए,
सीडी  चढ़ने  निकले  थे , क्यूँ    नीचे  खींच  लिए  गए .
माँ , तेरी याद …


बाबा  ने  कहा , नाना  से  सुना , जालिम  है  जमाना 
संभाल  कर  चलना ,
माँ  चलना  सीख   रहे  थे , क्यूँ   फिर  रोंदे  गए ,
क्यूँ  माँ  प्यार   का  साथ  नहीं , ज़ालिमो  का  हाथ  मिला .
इस तनहाई  से  डर   लगता  है , चीखते  है  पर , कोई  नहीं  सुनता   है .
माँ  तेरी याद 


माँ , दादी  ने  कहा  था , नाम  कर  जाना  कुछ  ऐसा  कम  कर  जाना .
क्यूँ   माँ  मौत  ने  पहले  बुला  लिया , 
हम  हारे  नहीं  माँ ,
जाते  जाते  जमाने  को  हराया  हमने .
मौत  को  गले  लगा , जालिमो  को  मौत  तक  पहुचाया  हमने .
माँ , दादी  से  कहना  नाम  कर  गए  है ,
हर  बेटी  के  लिए  मिसाल   बन  गए  है  हम ,
लड़ना  और  लड़ते  रहना  कह  गए  है  हम .
हम  नहीं  है  माँ , पर  हर  दिल  में  एक  निरभ्या   बन  गए  है  हम .
माँ  तेरी याद 
                         
                                  
 


तारीख: 09.07.2017                                                        दीपा कैलाश






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है