मैं तलाशता हूँ 

            मैं तलाशता हूँ 
             मृत्यु कैसे उसे तलाशती है 
                   अभेद् द्वार तोड़ 
                 जिन्दगी कैसे हारती

                 तितलिया फूल जैसे 
       शब्द आवाज क्यों नहीं तलाश पाते
                    धड़कने संगीत 
                      आँखे सुबह 
                     अधूरी आरजू 
                     अधूरा सफर 
                उस मासूम के कदम 
     जिन्दगी की राह क्यों नहीं तलाश पाते

                        मेरे शब्द 
                    इस पहेली का 
                हल नहीं तलाश पाते 
                  पाप - पुण्यं से परे 
    उस मासूम का गुनाह क्यों नहीं तलाश पाते

              झाँसी, मीरा, सीता, सावित्री 
          कल्पना चावला , सायना नेहवाल , 
                लता मंगेशकर के देश में
            कन्याओ का जीवन हरने वाले  
             क्यों हम उस मासूम परी का 
                जीवन नहीं तलाश पाते


तारीख: 17.12.2017                                                        देवेन्द्र सिंह उर्फ देव






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है