मुस्कुराना सीख लो

आंधियों मे पतंगे उड़ाना सीख लो
रेगिस्तान मे प्यास बुझाना सीख लो।
हर ख्वाहिश पूरी होगी तेरी 
बस बात बात पर मुस्कुराना सीख लो।।

नफरत करने वालों से प्यार निभाना सीख लो
अपने पर विश्वास जताना सीख लो।
गम तुमसे कोसो दूर होगा
बस बात बात पर मुस्कुराना सीख लो।।

लाख सीने मे हो जख्म दर्द पचाना सीख लो
न आता हो गाना गुनगुनाना सीख लो।
कोई मुश्किल नहीं रोक सकती कदम तुम्हारे
बस बात बात पर मुस्कुराना सीख लो।।

धारा के विपरीत पतवारें चलाना सीख लो
घास के तिनको से घर बनाना सीख लो।
आग का दरिया भी पार कर सकते हो
बस बात बात पर मुस्कुराना सीख लो।।
 


तारीख: 20.03.2018                                                        आशीष कुमार






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है