नज़रों का धोखा है

नज़रों का धोखा है,
या कोई मौका है,
तुम भी आज़माओ ना,
अब किसने रोका है।

सहमी सी सांसों में,
सिसकी जो घुटती है,
लासों सी पलती है,
थामों तो छूटती है।

कोनो में इक कोना,
मेरा भी लगता है,
छुप जाऊं मैं भी अब,
डर ऐसा लगता है |

कोनो में छुप छुप के,
बाते जो करते हैं,
भ्रम है वो जिंदा है,
तील तील के मरते हैं |


तारीख: 06.06.2017                                                        विजय यादव






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है


नीचे पढ़िए इस केटेगरी की और रचनायें