तड़प कर कहाँ जाओगे

तड़प कर कहाँ जाओगे 
जिंदगी यही है
बस यहीं है!

ये आँसू तो
तपस्या है पतझड की
इन्हे बहने दो
आगमन होगी
बंसत की!

कतरा कतरा भर
आँखो में धूल यहाँ है 
लाखों काँटो से लिपटा
एक फूल यहाँ हैं!

कब-तक कब-तक
कहाँ कहाँ जाओगे
जिंदगी यही है
बस यहीं है
कभी ना कभी
वापस तुम आओगे
तड़पकर आखिर कहाँ जाओगे !!!
 


तारीख: 09.06.2017                                                        पीयूष झा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है


नीचे पढ़िए इस केटेगरी की और रचनायें