बहुत हो चुकी मान मनौती की बातें

बहुत हो चुकी मान मनौती की बातें ,
संसद के गलियारों में अब जाना है । 
बचपन से जो सपना देखा था हमने ,
साकार रूप में आज उसे अब लाना है ॥१॥
 
बहुत भौंक लिया पाकिस्तानी कुत्तों ने,
शेरों  के संग उनको अब टकराना है । 
विगत साठ सालों में जो उस ने जख्म दिए ,
सूत समेत अब उनको ही लौटना है ॥२॥
 
नेताओं के खातों में जा कर देखो ,
निस-दिन भर रहा वहाँ खजाना है,
भ्रष्ट हो चुके नेताओं के हाथों से ,
भारत माँ को मुक्त हमें कराना है ॥३॥ 

सीने में धधक रहे रहे इन शोलों से ,
पत्थर को फिर आज हमें पिघलाना है । 
भारत माँ  की अस्मत की रक्षा हेतु,
हर फूल की पत्ती को तलवार बनाना है ॥ ४ ॥


तारीख: 19.06.2017                                                        सौरभ पाण्डेय






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है