कवि

जब सोता है जहान ये सारा
तब कही कोई जगता है

होता है कुछ कहने को आतुर
पर लब गुमसुम सा रहता है

शब्द उमड़ते हैं मन में
सार नहीं कोई बनता है

सुनते हैं बस सादे पन्ने
कोई नहीं जब सुनता है

दर्द उतरने लगता है इनपर
एक कारवां चल पड़ता है

भरने लगता है गला
मोती सा बह चलता है

देता है फिर वो एक नाम इन्हें
जिसे हर कोई कविता कहता है।


तारीख: 20.06.2017                                                        आयुष राय






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है