सावन के सोमवार

चल रहे सावन के सोमवार आओ बम बोले।
शिव की महिमा अपरंपार आओ  बम बोले।

सूर्य कर्क, सिहं ओर चले
सूर्य दाँये,चन्द्र बाँए,अग्नि मध्य नेत्र रहे
शिव को प्रिय सावन के सोमवार आओ बम बोले।

चल रहे सावन के सोमवार आओ बम बोले।
शिव की महिमा अपरंपार आओ बम बोले।

विल्व पत्र और पुष्प सफेद
भस्मी रमे और चढे धतूरा
चढे दूध की धार आओ बम बोले।

चल रहे सावन के सोमवार आओ बम बोले।
शिव की महिमा अपरंपार आओ बम बोले।

कुवांरी कन्या अच्छा वर पाये
ग्रहस्थ ,जीवन सुख पाये
आनंद होय चहूओर आओ बम बोले।

चल रहे सावन के सोमवार आओ बम बोले।
शिव की महिमा अपरंपार आओ बम बोले।

हम मूरख खल कामी है
शिव तो अन्तर्यामी है
शिव करेगे बेडा पार आओ बम बोले।

चल रहे सावन के सोमवार आओ बम बोले।
शिव की महिमा अपरंपार आओ बम बोले।

बोल बम 


तारीख: 02.07.2017                                                        रामकृष्ण शर्मा बेचैन






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है