सुन लो मेरी आह पिया जी

सुन लो मेरी आह पिया जी ,
एकला मुश्किल राह पिया जी ....

                         राम हृदय दुर्लभ जग में हैं ,
                         परख के बोलो शाह पिया जी ....

सिरफ़ रात तक चाँद तुम्हारा ,
करता मैं आगाह पिया जी ....

                          चादर तक ही पैर ये रखना ,
                          इच्छा की क्या थाह पिया जी ....

धोखा धंधा पैसा फंदा ,
कर दो सबका दाह पिया जी ....

                           सावन भादो औ बसन्त हो ,
                           तुम बिन कैसा माह पिया जी ....

जनम जनम के साथी हो लो ,
मुझको और क्या चाह पिया जी ....


तारीख: 29.06.2017                                                        शशांक तिवारी






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है