तुम मुझे पहचान लेना


मैं रहूँगा करीब तुम्हारे

बस तुम मुझे पहचान लेना

 

भोर के उजास में

दबे पैर तुम्हारे सिराहने आ

उषा की स्नेहिल किरणों से तुम्हें

स्पर्श करूं तो मुझे पहचान लेना

 

मंद मंद बयार में

अपनी सांसें भर भेज दूंगा

सुरभि तुम उसमें

मेरी पहचान लेना

 

पंछियों के सुर में

अपने स्वर भेज दूंगा

कलरव में उनके

तुम मुझे पहचान लेना

 

सांझ को छुपते रवि की

लालिमा में रंग कुछ अपने भर

नभ में फैल जाऊंगा

रंग मेरा तुम उसमें पहचान लेना

 

और रात को भेज दूंगा तारों में

अपनी सारी ज्योत, प्यार सारा

भर टिमटिम को उनकी स्वप्निल नयनों में अपने

नींदों में अपनी, तुम मुझे पहचान लेना

 

मैं रहूँगा करीब तुम्हारे

बस तुम मुझे पहचान लेना


तारीख: 27.08.2017                                                        भुवन पांडे






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है