यात्रा वृतांत - बनारस

आधी रात, तंग गली, वो सफ़र

ठंड, पसीना, घबराहट
फिर गंगा स्नान, उनका

खादी का कपड़ा
घी, चंदन, देवदार, आम 
और वो

गट्ठर, मुंडन, कर्मकांड 

अग्नि, लपटें, ताप
सच, निष्ठुर, निर्मम

औघड़, मैं और राख
गंगा स्नान, सबका

चाय,चर्चा, विलाप
ख़रीद गरुड़ पुराण, प्रस्थान 

पूर्णविराम। 


तारीख: 29.10.2017                                                        विष्णु पाठक






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है


नीचे पढ़िए इस केटेगरी की और रचनायें