शिव जी की पूजा(संस्मरण)

बात तब की है जब मैं सात साल का हुआ करता था । उन दिनों मैं हर रविवार अपनी फुफेरी बहन (जो कि मुझसे दो साल बड़ी थी) के साथ मंदिर जाया करता था । 


वहाँ  शिवलिंग की पूजा करना, दूध चढ़ाना, जल चढ़ाना, प्रसाद चढ़ाना, अगरबत्ती दिखाना  आदि  काम हम पूरे मनोयोग से करते थे । फिर घर आकर सबको प्रसाद खिलाते, खुद खाते और तब जाकर कोई दूसरा काम करते । 

एक समय की बात है । दीदी गाँव गई हुई थीं और मेरा मंदिर जाने का मन हो रहा था । पर अकेले जाने में मुझे शर्म आ रही थी । अचानक मुझे एक उपाय सूझा । सोंचा कि घर में ही मंदिर बना लेता हूँ । अतः मैंने  विद्यालय में हस्तकला विषय में बनाया एक थर्मोकॉल का घर लेकर  उसे  बगीचे में एक साफ़-सुथरी जगह पर रख दिया । उसकी थोड़ी साज-सज्जा की और इस तरह तैयार हो गया मेरा मंदिर । अब बारी थी प्रसाद की ।

मैंने पेड़ पर चढ़कर कुछ अमरुद तोड़े और भागकर दुकान से पाँच रुपए  की मिश्री ले आया । फिर घर वाले पूजा के कमरे से सबसे नजर बचाकर  कुछ अगरबत्तियाँ, एक पीतल का दीप औए एक चालीसा की पुस्तक उठा लाया । सभी सामग्रियाँ  मिल गईं पर दीप जलाने के लिए  तेल ही नहीं मिल रहा था । मैंने बहुत कोशिश की पर सब व्यर्थ । अंत में हारकर मैं केरोसिन का तेल उठा लाया । 

अब मेरी पूजा शुरू हुई । प्रसाद थाल में जमकर सजा दिए, अगरबत्तियाँ जलाईं और सभी चालीसे पढ़ डाले । अंत में बारी आई आरती की । मैंने बड़े ही प्रेम, श्रद्धा और भक्ति -भाव से दीप में केरोसिन तेल डालकर आरती शुरू की । थोड़ी ही देर में दीप गर्म होने लगा और मेरे हाथ से छूटकर मेरे मंदिर पर गिरा । थर्मोकॉल का होने  के कारण  मंदिर तेज़ी से जलने लगा । बड़ी मुश्किल से मैंने हाथ जलाकर भी भगवान की मूर्तियों, फोटो और चालीसा वाली किताब को बाहर निकाला और चुपके से उनको पूजा वाले कमरे में रख आया ।

दीप तो पूरा काला हो गया था । मैंने उसे जमकर रगड़ा । जब वह साफ़ हो गया तब जाकर जान में जान आई । और फिर उस दिन के बाद कभी पूजा करने का ख्याल मन में नहीं आया । 


तारीख: 18.07.2017                                                        विवेक कुमार सिंह






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है