बहुत रोता है

 

मेरी अंगुलियों के
नाखूनों को काटो
उखाड़ो नहीँ कि इनमें
दर्द होता है
दिल को सताओ, तड़पाओ, मुर्झाओ 
तोड़ो नहीँ
कि यह तन्हा अकेले में
बहुत रोता है।


तारीख: 21.10.2017                                                        मीनल






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है