ज़ुम्बिश

 

कैसी यह जुम्बिश है
सफर-ए रहगुज़र में
एक पाक सा एहसास
जरर्रे जर्रे में नीलाम हुआ है.....!

बा-खुदा इश्क़ पहचान था
एक नूर-ए-खुदाई की 
तो कैसे कतरा कतरा
वो अपनी सौफ़ियात से
फ़िरा है ..................!
 
 


तारीख: 22.03.2018                                                        मनीषा गुप्ता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है