नदी की धार

 

दुख की धार
सुख की धार बन जाती है
धरातल की सतहों पे
बहती नदी 
जब समुन्दर की तलहटों में जाकर
मिल जाती है।


तारीख: 21.10.2017                                                        मीनल






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है