दुनिया की इस भीड़ में

दुनिया की इस भीड़ में
मैं भी भिड़ना चाहता हूँ

चेहरा वही रखता हूँ
सिर्फ नकाब बदल कर आता हूँ। 


तारीख: 22.09.2017                                                        किरण शर्मा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है