यूपी 65

हर शहर का अपना वजूद होता है। हर शहर की अपनी आत्मा होती है। बनारस की भी अपनी आत्मा है,बल्कि यों कहिये की बनारस आत्माओं का शहर है। और शहर भी कैसा! एकदम जिंदा शहर;पता नहीं कितने ही हजार सालों से है। कहने वाले तो यहाँ तक कह गए है कि ये इतिहास से भी पुराना है।तो इसी जिंदादिली को बरकरार रखती है निखिल सचान की 'यूपी 65' नाम की यह किताब।

UP 65


अगर जिंदगी एक किताब है तो निखिल सचान के अनुसार बनारस उनकी जिंदगी का सबसे ख़ूबसूरत चैप्टर है। जैसे दिल्ली की भीड़ में हर कोई खुद को खो देता है,वैसे ही बनारस की गलियों में हर कोई खुद को पा लेता है। बनारस ने लेखक को खुद से मिलाया है,प्रेयसी से मिलाया है,अज़ीज दोस्तो से मिलाया है....और यह किताब उन्हीं सब का कुल जमा जोड़ है। 


इस किताब में बनारसीपन है,खालीपन है,गांजे का नशा है,चिलम का धुआँ है,बेफिक्री-उल्लास है, भौकाली है,और थोडी-बहुत गाली भी है आशीर्वाद की तरह लेकिन उतनी ही जितनी कि आटे में नमक  की जरूरत होती है। पहलवान लस्सी की ताजगी है, भौकाली चाट का तीखापन है, पिज्जैरीया के पिज्जा सा टेस्ट है, लेमन टी की महक है, बी.एच.यू के छोले-समोसे का स्वाद है और लोंगलत्ते की मिठास भी है।

गंगा की तहजीब है, गलियों की भटकन है,घाटों पे मुक्ति है,मुमुक्षु भवन में इंतजार है,शरद पूर्णिमा की रात सा निखार है, और हर हर महादेव की गूँज भी है। बी.एच.यू की कहानियाँ है,ग़ालिब के शेर है, केदारनाथ सिंह की कविताएँ है, असहिष्णुता के मुद्दे पर राजनीति है, महिला सशक्तिकरण पर जोर है, छात्रों के आंदोलन है, हॉस्टलों का गुरिल्ला युद्ध है, सेमेस्टर एक्ज़ाम्स का दबाव है और निष्काम प्रेम भी है। कानपुरिया लहजा है,इलाहाबादी अंदाज है,दिल्ली का खुलापन भी है, लेकिन बनारस आकर सब कुछ बनारसी हो जाता है। दिल की आवाज है,सोच का बदलना है, उम्मीदों का टूटना है,सपनों की हक़ीक़त है,जिंदगी का मर्म है,और मौत का भ्रम भी है।
कबाड़ी बाबा का बी.एच.यू दर्शन भी है जो कहता है कि-"....ये अंभर्सिटी(यूनिवर्सिटी) को सौ साल से ऊपर हो गया है। यहाँ से ऐसे ऐसे चउचक लड़के निकले है। एकदमे बम्पर। प्रतिभाशाली। काहे से प्रतिभा जो है न गुरु ऊ भोले बाबा का आसिरबाद है। गियानी तो दुनिया में हर कोई है। लेकिन हर किसी के सर पे औघड़ शंकर का हाथ नहीं होता।"

UP 65 Book review

गंगा जी में दिखता खुद का अक्स भी है,जो बिल्कुल वैसा ही है जैसे कि तुम हो।
"गंगा जी उदास लग रही थी। शायद इसलिए क्योंकि हम लोग उदास से थे। गंगा जी सबको वैसी ही लगती है जैसे वो खुद होते है। उदास के लिए उदास। थके हारे के लिए थकी। खुशमिजाज के लिए खुश। कमले के लिए कमली।"

और पहली नजर का पहला प्यार भी है।
"मैं उसे एकटक देख रहा था। पहले कभी किसी लड़की से प्यार-व्यार क्या इंफैचुएसन तक नहीं हुआ था इसलिए समझ नहीं पा रहा था कि भीतर क्या चल रहा है। लेकिन इतना जरूर समझ आ रहा था कि साँस भारी होकर आ रही है और हल्की होकर छूट रही है, थोड़ी हरारत हो रही है, फिर भी सुकून मिल रहा है। उँगली के पोर पर नाखून चुभाने से अच्छा लग रहा था।"

लेकिन यूनिवर्सिटी से रस्टिकेट हो जाने का दुख नहीं है। 
"रस्तीकेट होकर? और भला क्या सीखा है तुमने?"

"मैंने सीखा है कि नए सपने देखने के लिए सुस्ता लेना बहुत जरूरी है। बिना सोये-सुस्ताए, हम सुनहरे सपने नहीं देख सकते पापा।"

सबसे प्यारी केदारनाथ सिंह की एक कविता कि-
"उसका हाथ
 अपने हाथ में लेते हुए मैंने सोचा
 दुनिया को
 ‎हाथ की तरह गर्म और सुंदर होना चाहिए।"

निखिल सचान के शब्दों में-" ये किताब इसी ख्वाहिश में है कि ये आपको बेइंतहा हँसाए, बनारस ले जाए और आपकी जिंदगी के सबसे सुकून भरे पलों से मिलवा लाए। इसके अतिरिक्त कुछ नहीं। हँसते-खिलखिलाते आप खुद को भी पा जाएँ तो भोले बाबा का आशीर्वाद मानिए।
इससे इतर और कुछ हो भी क्यों, काहे से ई बनारस है महराज।"
हर हर महादेव।


तारीख: 17.03.2018                                                        विकास रावल






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है