देख के हैरान हूँ

 

बेइन्तिहाँ बर्बादी का ये मंज़र देख के हैरान हूँ ,
अपनी पीठ पर दग़ाबाज़ी का खंज़र देख के हैरान हूँ |

नियत से हट गए है मेहनतकश वो आदमी,
बेचते है ज़मीन को करते है बंज़र देख के हैरान हूँ |

आज भी फितरत बदली नहीं है क़ायनात की,
काट देते है जिन्हे, फलों-फूलों से लदें है वो शज़र देख के हैरान हूँ |

भरी है बदनियति, धोखा, फ़रेब, लालच और हवस,
क्या है ये बदन, हाड मांस का पिंजर देख के हैरान हूँ ||

शज़र=पेड़  


  
 


तारीख: 21.07.2020                                                        विवेक द्विवेदी






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है