मेरे ख्याल से


इश्क़ पे बदनुमा  दाग  है ताजमहल
फक़त कब्रे मुमताज  है   ताजमहल ।


होगा दुनिया के लिए सातवां अजूबा
मेरे लिए तो इक लाश   है ताजमहल ।


फना जो खुद   हुआ नहीं मुहब्बत में
उस की जिंदा   मिसाल है ताजमहल ।


लोग खो जाते हैं इसकी खूबसूरती में
भूल जाते हैं कि उदास  है ताजमहल ।


किसी की मौत का इतना बड़ा मज़ाक
प्रेम का बस इक उपहास है ताज महल ।


या खुदा  इतनी खुदगर्जी  आशिकी  में
शाहजहाँ का मनोविकार है ताजमहल ।


अब छोड़ो भी अजय तुम गुस्सा करना
समझ लो कि  इतिहास है  ताज महल ।


तारीख: 03.07.2020                                                        अजय प्रसाद






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है