आईनों पर दाग की सिफारिश ना कर

आईनों पर दाग की सिफारिश ना कर
तू बेवजह आग की सिफारिश ना कर

मैं तुझे जन्नत बसाकर दे सकता हूँ पर
उजड़े हुए बाग की सिफारिश ना कर

पहले ही आस्तीन मे छुपा बैठा है अब
और किसी नाग की सिफारिश ना कर

तू कुछ और मांग ले इस मौसम मे मगर
त्यौहार ऐ फाग की सिफारिश ना कर

मैं तेरी मनमर्जी की धुन न बजा पाऊंगा
हाथ नही हैं राग की सिफारिश ना कर


तारीख: 11.10.2021                                                        मारूफ आलम






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है