फेसबुक पर

facebook gazal
चलो निकालतें हैं भड़ास फ़ेसबुक पे
कुछ पल को होतें है उदास फेसबुक पे ।


हक़ीक़त में तो जा कर लड़ नहीं सकते
क्यूँ न बन जाएं हम सुभाष फेसबुक पे ।


लिखें,शायरी,कविता,दोहे,शेर वगैरह ही
उड़ा दे चीन की होशोहवास फेसबुक पे ।


शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए
पहनें देशभक्ति का लिबास फेसबुक पे ।


जाओ अजय तुम भी कम नहीं किसी से
दिखाते हो खुद को बदहवास फेसबुक पे ।


तारीख: 20.06.2020                                                        अजय प्रसाद






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है