घिस रही है लाइफ

घिस रही है लाइफ डिटर्जेंट की तरह

पेश आती है वाईफ मैनेजमेंट की तरह ।

 

रोज़ बतातें है फायदे बीमा पॉलिसी के

दोस्त सब हैं एलाईसी एजेंट की तरह ।

 

ऑफिस में बॉस मेहरबाँ हैं हाइली यारों

संडे भी बुलाता है काम अर्जेंट की तरह ।

 

मुसीबतों का आना जाना लगा रहता है

रिश्ता है स्ट्रांग अम्बुजा सीमेंट की तरह ।

 

गॉड की मर्ज़ी के खिलाफ़ नो रिक़ुएस्ट

लेता हूँ आर्डर ऑनेस्ट सरवेंट की तरह ।

 

हो गए हो तुम अजय अब ओल्ड माडल

दिख रहे हो आजकल पेशेंट की तरह


तारीख: 25.06.2020                                                        अजय प्रसाद






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है