कब जले कब बुझे कुछ याद नही रक्खा

कब जले कब बुझे कुछ याद नही रक्खा
  हमने चरागों पर कभी दबाव नही रक्खा

अपनी हैसियत मे जिंदगी गुजर बसर की
अनमोल चीजों पर अपना हाथ नही रक्खा

   वो गुजरा जरूर बिल्कुल करीब से मेरे
मगर उसने भी कब्र पे गुलाब नही रक्खा

 बेतरतीब खर्च किया दिल के खजाने को
कहाँ कितना खर्च किया हिसाब नही रक्खा

और यूहीं मोहब्बत परवाज कर गईं 'आलम'
मैने कोई जबाब उसने कोई सवाल नही रक्खा


 


तारीख: 09.07.2021                                                        मारूफ आलम






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है