खामोशी से कमजर्फों की तरह हम

खामोशी से कमजर्फों की तरह हम
टूटते रहे हरपल हर्फ़ों की तरह हम

तेरी चाहत का जजिया जमाने को
चुकाते हैं रोज कर्जों की तरह हम

तेरी नजरों मे थोड़े ही सही लेकिन
बुलंद रहेंगे सदा,दर्जों की तरह हम

महर माफ किए तूने मगर फिर भी
अदा करते रहे फर्जों की तरह हम

दवाएं बेअसर हैं आराम ना आऐगा
शामिल हैं तुझमे मर्जों की तरह हम


तारीख: 11.10.2021                                                        मारूफ आलम






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है