ख़ुशी भी ढूँढू तो बस दर्द का सामान मिले

ख़ुशी भी ढूँढू तो बस दर्द का सामान मिले

मुझे जो लोग मिले मुझसे परेशान मिले।

 

मैं अपने शहर का मुआइना जब करने लगा

मुझे तो हर जगह सोते हुए दरबान मिले।

 

कहीं भी कूच करू मिलती हैं ज़िन्दा लाशें

कभी कभी ही तो ज़िन्दा हमें इंसान मिले।

 

जिन खिलौनों के संग बचपन अपना बीता

आज देखा उन्हें तो सारे वो बे-जान मिले।

 

वो जिनकी आदत थी तंज़ करना औरों पे

दाग-धब्बों से भरे उनके गिरेबान मिले।

 

जब अपनी ज़िन्दग़ी की लाश को देखा मैंने

उसकी गर्दन पे मेरे हाथों के निशान मिले।


तारीख: 26.09.2020                                                        जॉनी अहमद क़ैस






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है