रक्खा है मैंने आस्तीन में साँप पाल के

रक्खा है मैंने आस्तीन में साँप पाल के
मिलना मुझसे तुम ज़रा देख भाल के ।


वैसे तो हूँ दिखने में बेहद शरीफ मगर
रोक देता हूँ तरक्की मैं अड़ंगे डाल के ।


मौके के मुताबिक मुखौटे भी हैं मेरे पास
और अभिनय भी करता हूँ मैं कमाल के ।


शक्ल-सूरत भी है मेरी इन्सान के जैसा
मगर फ़ितरत मेरी है यारों हलाल के ।


कोसता हूँ कसम खा के मरते दम तक
रह न जाए दिल में शिकवे मलाल के 


तारीख: 03.07.2020                                                        अजय प्रसाद






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है