शायरी आजकल बेहद शरमा रही है

शायरी आजकल बेहद शरमा रही है
शायरों को वो दिन-रात आजमा रही है ।


ग़ालिब गुस्से में हैं और हैं खफ़ा ज़फर भी
क्योंकि नई पीढ़ी जो उनको भुला रही है ।


बे-बहर गजलें और वाह वाही की फ़सलें
मीर,मोमिन,दागओअदम को चिढ़ा रही है ।


कैफ़ी और दुष्यंत दूर से हैं बिलबिलाते
शायरी उनकी उनसे ही मुहँ फूला रही है ।


अव्वल दर्जे के अहमक हो अजय तुम भी
खुद ये गज़ल ही तुम्हारी खिल्ली उड़ा रही है।


तारीख: 20.06.2020                                                        अजय प्रसाद






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है