उस्ताद कई हैं फ़ेसबुकिया जो शायरी सिखातें हैं

facebukiya shayri

उस्ताद कई हैं फ़ेसबुकिया जो शायरी सिखातें हैं
और बे-बहर लिखनेवालों की औकात बतातें हैं ।


बे-अरूज़ गज़ल कहना है उनकी नज़र में गुनाह
मगर पेट पालने के लिए वो कहीं और से कमातें हैं ।


मतला,मकता,काफ़िया और रदीफ़ के साथ साथ
क्या है रुक्न और कितने हैं बहर सब बतातें हैं ।

 
किसे कहतें हैं तरही मुशायरा, क्या है फिलबदीह
तमाम चीजों को वो बेहद बारीकी से समझातें हैं ।


काफ़िये के कायदे,और कवायद-ए-रदीफ़ ही नहीं
वल्की कैसे मात्रा गिना जाता है ये भी बतातें हैं ।


क्या है मात्रा गिराने के नियम के फायदे गज़ल में
कैसे कही जातें हैं गज़लें बहर में यारों सिखातें हैं ।


कई नामी गिरामी शायरों के शेरों पे होती है बहस
और नये लिखनेवालों को उनके नाम से डरातें हैं ।


सब जानते है कि ज़िंदगी शायरों की गुजरी कैसे
लेकिन बस उनके लिखे कलामों को ही गिनातें हैं ।


तेरा क्या होगा अजय तू सोंच के रख ले अभी से
पता नहीं तुझे कहाँ से ये लोग इतना जोश लातें हैं ।


तारीख: 20.06.2020                                                        अजय प्रसाद






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है