बुद्ध


गांव खुश हैं,
वायरस वहां चुप है !
शहर थे खुशफहमी में,
अबतक सन्नाटा घुप्प है!
हुई हवा शुद्ध,
अब हर दिल में,
बुद्ध है!
धर्म-मजहब छूटा पीछे,
ये इंसानियत जगाता,
आपसी प्रेम का,
युद्ध है!


तारीख: 01.05.2020                                                        सुजाता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है