जो मेरे पास रहे

जो मेरे पास रहे 
बहुत  ख़ास रहे 

कभी तो ज़मीन 
या आकाश रहे 

बिखेरते रहे बू 
जो मधुमास रहे 

छोड़े न छूटती 
वो अहसास रहे 

छिपाके बुराइयाँ 
मेरा कपास रहे 

पिला दी ज़िंदगी 
क्या आभास रहे 
 


तारीख: 27.07.2019                                                        सलिल सरोज






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है