मुनासिब ये होता के हम मिले न होते

 

मुनासिब ये होता के हम मिले न होते,

मुनासिब ये भी है के हर 'आज' मिले। 
------------------------------
मुनासिब ये है के याद तुम्हारी दिन भर न आये,

मुनासिब ये भी है के इतनी आये, की रात ज़ालिम छाती पर गिर जाए।
------------------------------
मुनासिब ये है के अब भोर हो,

मुनासिब ये भी है के फिर दोपहर हो, फिर शाम, फिर दुबारा ये रात चढ़ आये। 
-------------------------------
मुनासिब ये है के हम दबे पांव दूर निकल जाएं,

मुनासिब ये भी है के तुम जागती हो, ये जान के हम वापस मुड़ जाएं।
----------------------------
मुनासिब ये है के सब हकीकत नहीं ख़याल हो,

मुनासिब ये भी है के हम सोये, सोते रहे, फिर सो जाएं। 


तारीख: 20.05.2020                                                        अंकित मिश्रा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है