पिता

 

स्नेह की मूरत,
त्याग की सूरत
विश्वास का घर,
खुशियों का दर,
सुख की बौछार,
धन की फुहार
परिवार की हिम्मत,
सबकी किस्मत
जिम्मेदारियों का सारथी,
संघर्षों के हल में महारथी
घर का स्वाभिमान
अपनों का मान
उम्मीदों के पांव,
बरगद की छांव,
धरती पर ईश्वर का रुप होता है पिता।


तारीख: 21.06.2020                                                        रेखा पारंगी






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है