शगुन- अपशगुन

 

शगुन अपशगुन क्या है ये मैं नहीं जानतीं
ऐसा करो वैसा मत करो ये मैं नहीं मानती
लोगों की अवधारणा मैं दिखाती हूँ
कैसे रंग बदलती हैं दुनिया मैं बताती हूँ

बिल्ली रास्ता काट जाए तो लोग चिल्लाये, हाय!हाय!
अब क्या बेचारी बिल्ली अपने घर भी ना जाए
कमाल तो तब हैं जब दीपावली आ जाए
उसी बिल्ली को अब वो लश्र्मी कहकर घर में बुलाना चाहें

रात में जब आवारा जानवर रोए और चिल्लाए
ठंड में कैसे बेजुबान तड़प रहे कोई समझ न पाए
लोग तो तब भी अपशगुन अपशगुन कह कर शोर मचाये
फिर Heater चलाए और आराम से रजाई में घुस जाए

घर की छत पर बैठा कौआ बिल्कुल भी नहीं भाए
सुनते ही काँव काँव लोगों के सिर में दर्द हो जाए
उन्हीं कौओं को पितृपक्ष में बड़े प्यार से घर पर बुलाये
और फिर बड़े इतमीनान से खीर पूरी खिलाएँ

जो भी होता है अच्छे के लिये होता हैं ये नहीं मानती
ये दुनिया सब जानती हैं बस इंसानियत नहीं जानती
शगुन अपशगुन क्या है ये मैं नहीं जानतीं
ऐसा करो वैसा मत करो ये मैं नहीं मानतीं 


तारीख: 24.05.2020                                                        प्राची दीपक गोयल






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है