और कितना बवंडर करके छोड़ेगा

और कितना बवंडर करके छोड़ेगा
वक़्त क्या सब खंण्डहर करके छोड़ेगा

हाकिम खुश है अपने फैसलों पर
लगता है सब बंजर करके छोड़ेगा

ये क्या कम है तूने दिल बांट दिये
देश का और क्या मंजर करके छोड़ेगा

तेरी जद मे दरख्तों के साये जल गये
अब इंसानों को भी क्या पंजर करके छोड़ेगा

उसकी जिद से तो यूँ लगता है'आलम'
वो लाशों पे खुद को सिकंदर करके छोड़ेगा


तारीख: 31.08.2021                                                        मारूफ आलम






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है