चाँद - हाइकु


विधा - हाइकु
-----------------------------

चेहरा तेरा
चन्द्रमुख सा, उर
हर्षित करे।।

रूप तुम्हारा
चंद्रमा की चाँदनी
शीतलता दे।।

बिंदिया तेरी
गुलाबी आकाश में
लाल चंद्रमा।।

आँखों में तेरे
चाँद-सितारे से हैं
झिलमिलाते।।

उड़ती जुल्फ़े
चाँद की रोशनी में
काली निशा-सी।।

रजनीपति
वो मेरी, मैं केवल
उसका पति।।

वो मेरे साथ
ऐसे चन्दा-चकोर
के साथ जैसे।।


तारीख: 15.07.2020                                                        सोनल ओमर






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है