दिल करता है

 

आज खुद से गुफ्तगू करने को दिल करता है...
 
ख़ामोशी से तय की ज़िंदगी के सफर में, 
उड़ने, चहचहकाने को दिल करता है....

बीस से चालीस की दौड़ तय कर ली मैंने,
अब कुछ समय ठहर जाने को दिल करता है....
 
कुछ मन का करूँ, 
रंगो को बिखेरू, 
या शब्दों का सृजन करूँ,
बस खुद में खो जाने को दिल करता है ...

आज मूक बधिर ना बन, 
गुनगुनाने को दिल करता है..


तारीख: 15.07.2020                                                        मंजरी शर्मा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है