एक दिन ये अंधियारा जायेगा

एक दिन ये अंधियारा जायेगा।
फिर से खुशी के दिन आयेगा।
फिर होगी वही चहल पहल।
जल्द मिलेगा इस समस्या का हल।
सड़कों पे फिर दौड़ेगी गाड़ीयाँ,
जिसका हम यारों के संग करेंगे सवारियाँ।

हाँ कोरोना एक महामारी है,
विश्व मे फैली ये छुआ-छूत की बीमारी है,
जल, थल और वायु तीनो ही इसकी सवारी है,
मास्क पहनना और लोगों से दुरी बनाये रखना,
इस बीमारी में हमारी नैतिक जिम्मेदारी है,
यारों कोई बुरा ना मनो ये दुरी बनाना 
हम सब की लाचारी है,
हम सब की लाचारी है।।

हम मिल कर कोरोना को दूर भगायेंगे
आपने देश को इस महामारी से बचाएँगे, 
हर लोगों में दिल से सेवा- भाव जगाएंगे
तभी एक दिन मिल कर हमसब, 
 यह गीत गा पाएंगे,
जीत गयें, हम जीत गयें।
कोरोना महामारी से जीत गयें ।।
 


तारीख: 30.05.2020                                                        राकेश कुमार साह






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है