एक घूसखोर - क्षणिका

क्षणिका

एक घूसखोर
बड़े ही आत्मविश्वास
से बोले-
हमें लोगों को
अपने मुताबिक
ढालना है!
मैंने तत्काल कहा-
इल्लत पालना है!!


तारीख: 15.07.2020                                                        अविनाश ब्यौहार






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है